शिलाँग मे मेरा प्रथम वार्षिकोत्सव

शिलाँग के संस्मरणों की यह एक किस्त पेश कर रहा हूँ। प्रथम किस्त में केवल वहाँ के पेहले दिन की स्मृतियाँ शब्दबद्ध की थी; इससे ऐसी आशँका न हो कि मैं वहाँ के प्रत्येक दिन की स्मृति एक एक लेख में प्रस्तुत करने जा रहा हू। पाठकों पर इतना अत्याचार करने का मेरा कोई इरादा नहीं है। इस किस्त में प्रारम्भ के दस दिन की कुछ विशेष स्मृतियों को लिपिबद्ध करने का प्रयास कर रहा हूँ।
जीवन का हर अनुभव कुछ शिक्षा लेकर हमारे पास आता है। मेरे जैसा कोई साधारण व्यक्ति भी पीछे मुड्कर बीते दिनों पर नज़र डालता है तो देखता है कि छोटे छोटे प्रसंग भी बड़ी सीख देने की क्षमता रखते हैं। प्रसंग विस्मृत होने के बावजूद भी उस्से प्राप्त शिक्षा भीतर बनी रहती है।दूसरे दिन से श्रद्धेय रघुनाथानन्द जी और आश्रम के अन्यान्य संन्यासी-ब्रह्मचारी मुझे वहाँ का काम समझाने में लग गये। कई कार्य मेरे लिए बिल्कुल नये थे। नागपुर में रहते समय हिसाब-किताब रखना मैंने कुछ हद तक सीख लिया था, किन्तु वहाँ कोई सरकारी अनुदान नहीँ मिलता था। ऐसे अनुदान का प्रस्ताव ठीक शासकीय पद्धति के अनुरूप बनाना होता था। उसका जमा-खर्च इत्यादि भी, जो सारे सरकारी नियम थे, उसी ढाँचे मे डालने पड़ते हैं। मेरे लिये यह कुछ अजीब सा मामला था, थोडा हास्यपूर्ण भी। उदाहरण के तौर पर – वहाँ साफ सफाई का काम करने वालें दो कर्मचारियों को “लाइब्रेरियन” के नाम से तनखा दिखानी होती थी। इसके पीछे क्या कारण हैं मुझे यथावकाश समझाए गए। कल औपचारिक रूप से कार्यभार ग्रहण करना था।
आश्रम के कई भक्त, संचालन-समिति (Managing Committee) के कुछ सदस्य, कर्मी और स्वयंसेवक मिलने आ रहे थे। कई फ़ोन भी चल रहे थे। यहाँ के भोजन के विशिष्ट गंध से भी परिचित होना मेरे लिए सहज नहीं था। विशेषकर ‘शूटकी’ पकाने की गंध। यद्यपि आश्रम में ‘शूटकी’ शायद ही कभी बनती थी, चारों तरफ से वह गंध (जो मेरे लिए अति दुर्गन्ध थी, अन्य लोगों के लिए वह कोई परेशानी नहीं थी; कुछ ऐसे भी थे कि उस गंध से वे बडे खुश हो जाते थे, मुँह में पानी आ जाता था। इससे यह सिद्ध होता है, कि कोई भी गंध, या कोई भी इन्द्रियानुभव अपने आप में अच्छा- बुरा नहीं होता; हर व्यक्ति की रुचि भिन्न होती है)। नाक को भर देती थी, और फिर भोजन करना एक प्रयास बन जाता था। शिलाँग में रहते रहते ऐसे गंधों से मेरा नासिकेंद्रिय परिचित हो गया। मैं माँस, मछ्ली इत्यादि कुछ नहीं खाता था – मुख से; किन्तु नासिकाद्वार से वह मेरे भीतर प्रविष्ट हो रहा था। ‘घ्राणेन अर्धभोजनम्‌’ यह उक्ति कितनी सार्थक है !
दूसरे दिन, अर्थात गुरुवार, २८ मार्च १९९६ को श्री रामकृष्ण का दर्शन कर मैं और रघुनाथानन्द जी दफ्तर में आए। अन्य साधु – छात्रावास के छात्र भी उपस्थित थे। मैने अनुमति पत्र (Letter of Acceptance) पर हस्ताक्षर किए। अब इस औपचारिक कार्यक्रम से इस आश्रम के सेक्रेटरी का भार रघुनाथानंद जी से मुझपर आ गया। हंसते हुए उन्होंने कहा, “अब बाघ की पूँछ तुम्हारे हाथ देकर मैं मुक्त हो गया।” मुझे इस कथन का तात्पर्य समझ में नहीं आया। तब उन्होंने केरल देश में प्रचलित कहानी सुनायीः
“एक नंबुद्री ब्राह्मण (ये लोग अपनी जिज्ञासु वृत्ति, चतुराई, तीव्र बुद्धि के लिए जाने जाते हैं) जंगल की एक पगडंड़ी से गुजर रहा था तो उसने देखा कि किसी शिकारी ने लगाये हुए पिंजरे में एक बड़ा बाघ फँस गया हैै। कौतूहलवश वहाँ जाकर उसने बाघ को एक टहनी से नोचा। गुस्से में आकर बाघ ने टहनी को खींचा, नंबुद्री ने भी खींचा दोनों की खींचा-तानी मे वह टहनी की अटकनी लगी और पिंजड़ा खुल गया। बाघ बाहर निकल ही रहा था कि बुद्धिमान नंबुद्री ने पिंजडे के बाहर निकली हुई बाघ की पूँछ कसकर पकड़ लिया। अब बाघ बाहर निकल नहीं सकता था। पर कितनी देर वह सारी शक्ति लगाकर पूँछ को पकड़ कर रख सकता था? कुछ थोड़े ही समय में वह थक गया; किन्तु पूँछ छोड़े तो बाघ बाहर निकलेगा और फिर…?
जान की बाजी लगाकर वह पूँछ पकड़े हुए वह बै्ठा था तब उसने पगडंड़ी से गुजरते हुए एक व्यक्ति को देखा और उसे पुकार कर कहने लगा, ‘यह बाघ मेरी पकड़ में आ गया है; बस अब इसे राजा के पास ले जाऊँगा और बहुत बड़ा इनाम पाऊँगा। तुम मेरी थोड़ी मदद करो तो तुम्हें भी कुछ हिस्सा मिलेगा; एक मिनट यह पूँछ पकड़ो, मैं अभी पेशाब करके आता हूँ। ’ उस मूर्ख व्यक्ति ने पूँछ पकड़ते ही नंबुद्री जी तो तेजी से भाग निकले। ” इतना कहकर रघुनाथानंद जी और हम सब हँसने लगे। उन्होँने मुझे बाघ की पूँछ पकड़ा दी है, इसका प्रमाण चंद दिनों में ही मिला। वह प्रसंग बाद में इसी किस्त के अंतर्गत बताऊँगा।
श्रद्धेय रघुनाथानंद जी ने फिर एक सुन्दर सा कोट निकालकर मुझे दिया। ‘मेरे पूर्ववर्ती सचिव देवदेवानंद जी ने दस सालों तक इस कोट का इस्तेमाल किया और फिर मुझे दिया; मैंने भी पिछले दस साल इसका उपयोग किया और अब तुम्हें दे रहा हूँ। मेरी इच्छा है कि तुम भी दस या अधिक साल उसका उपयोग कर फिर अपने उत्तराधिकारी को दे दोगे। ’
उनकी इस इच्छा को मैं पूर्ण नहीं कर सका। मात्र चार सालों के तुरन्त बाद ही मेरा शिलाँग से तबादला हुआ और मेरे उत्तराधिकारी श्रद्धेय स्वामी जगदात्मानंद जी को यह कोट (और बाघ की पूँछ भी) सौंपकर मैं शिलाँग से निकल पड़ा। जगदात्मानंद जी का कद उस कोट की लम्बाई से अधिक ऊँचा था, बाहें भी लम्बी थीं। उस कोट का उपयोग उन्होंने शायद ही कभी किया हो। उनके उत्तराधिकारी श्रद्धेय ब्रह्मदेवानंद जी को उस कोट की कोई जानकारी भी नहीं थी।
शुक्रवार, २९ मार्च १९९६, ठीक सढे नौ बजे संचालन समिती की मीटिंग शुरु हुई। श्री आर. टिं. रिम्बाई, मेघालय के जयंतिया जनजाति के एक प्रमुख व्यक्ति, इस समिती के सम्मानीय अध्यक्ष थे। आने वाले दो-ढाई सालों में उनके साथ मेरा धनिष्ठ संपर्क रहा। मीटिंग में उपस्थित सभी सदस्यों से वार्तालाप हुआ। इन सभी का आंतरिक सहयोग आश्रम की गतिविधियाँ सुचारु रूप से चलाने हेतु आवश्यक था। विगत दो महीनों का लेखा-जोखा और मीटिंग का इतिवृत्त (minutes) सारा रामकृष्ण मिशन के मुख्यालय को भेज दिया गया। श्रद्धेय रघुनाथानंद जी को बिदाई देने का (send-off) बड़ा समारोह करना होगा इसपर भी सभी ने उत्साहपूर्वक सहमति दर्शायी।
रामकृष्ण संघ के परमाध्यक्ष पूज्य भूतेशानन्द जी, उपाध्यक्ष रंगतानन्द जी, गहनानन्द जी इन्हें पत्र लिख्कर आशीर्वाद याचना की।
इसके दूसरे दिन रामकृष्ण मिशन चेरापुंजी (जिसे अब सोरा नाम से जाना जाता है) जाना था। बचपन से ही चेरापुंजी का नाम सुनता आया था – जहाँ दुनिया की सर्वाधिक बारिश होती है। जीप गाड़ी से सुबह निकले; शिलाँग में तो सुनहरी धूप निकल आयी थी। चेरापुँजी तक का लगभग ४० कि. मि. का पहाड़ी रास्ता पूरा करने को पूरा एक घण्टा लगा। शिलाँग से १५ कि. मि. के बाद ही दृश्य बदल जया। बायी और गहरी घाटी से घने बादल भी हमारे साथ मानो चेरापुँजी चल रहे थे। ‘देखो, अब आप की समझ में आएगा कि चेरा में इतनी बारिश क्यों होती है। ये सारे बादल जल से पूर्ण है। इस घाटी से गुजरते हुए वे चेरापुँजी के ऊँचे पहाड़ से टकरा जाते हैं। इतना सारा पानी का वजन लेकर ये बादल पहाड़ चढ़ नहीं पाते तो सारा पानी बारिश के रूप में वहीं फ़ेंक देते हैं’- हमारे एक सहयात्री, जो कि इस प्रदेश में कई साल रह चुके थे, बना रहे थे। उनका यह कथन मेट्रॉलाजी की दृष्टि में कितना वैज्ञानिक था, ये बताना मेरी औकात के बाहर होने पर भी बड़ा ही रोचक प्रतीत हुआ। आनेवाले कई वर्षों में उनका यह कथन मैंने कई बार नवागतों के सामने (कुछ अधिक मिर्च-मसाला डालकर) दोहराया है।
चेरापुँजी के रास्ते पर विभिन्न ग्रामों में रामकृष्ण मिशन, चेरापुँजी द्वारा संचालित कई स्कूल दिखाई पड़े। उन स्कूलों के बच्चे हमारी जीप को (जिसपर रामकृष्ण मिशन, शिलाँग लिखा था) देखते ही ‘खुब्लेई महाराज’ का घोष लगाकर अभिवादन करते थे। हम लोग भी गाड़ी जरा धीमी कर उन्हें ‘खुबलेई शिबून’ कहकर आगे बढते थे। रास्ते में दोनो तरफ कहीं कोयले के और कहीं बालू के ढेर लगे थे। कई ट्रक उन्हें उठाकर विक्रय के लिए अन्य स्थानों पर ले जाते थे। इस सम्बन्ध में पूज्य भूतेशानन्द जी महाराज एक विनोदपूर्ण किन्तु शिक्षाप्रद घटना सुनाया करते थे। उसे बाद के किस्त में लिखूँगा।
चेरापुँजी आश्रम के प्रमुख स्वामी इष्टानन्द जी मेरे साथ ही बेलुड़ मठ स्थित ‘प्रोबेशनर्स ट्रेनिन्ग सेन्टर’ में दो साल थे और हमारी अच्छा मित्रता थी और अभी भी हमारी आपसी मुलाकात और वार्तालाप आज भी जारी है। मेरे अमेरिका आने के कुछ महीने पहले वे भी यहाँ पहुंच गए थे और इन दिनों सेण्ट पीटर्सबर्ग, फ्लोरिडा में स्थित रामकृष्ण मिशन के वेदान्त सेंटर के प्रमुख बने। एक कार्यकुशल संघटक और अच्छे वक्ता के रूप में इस देश में भी सुख्यात हैं। हम दोनों एक-दूसरे से मिलकर बड़े हर्षित हुए। वहाँ का मंदिर, स्कूल, छात्रावास इत्यादि देखकर बहुत आनन्द हुआ। पिछले 20 सालों से से इस आश्रम के स्फूर्तिशाली इतिहास को मैंने गौर से कई बार पड़ा था, और मराठी मासिक पत्रिका ‘जीवन- विकास’ (जिसका प्रकाशन रामकृष्ण मठ, नागपुर से होता था) मैंने उसके विषय में प्रबन्ध भी लिखे थे। वहाँ अब मैं जब प्रत्यक्ष रूप से सब देख रहा था तो कितनेही पवित्र, ‘त्याग और सेवा’ इस स्वामी विवेकानन्द जी के मन्त्र से प्लावित भावतरंग मन में उछलने लगे थे। अच्छा खासा भोजन हुआ। वहाँ की संचालन समिती के एक सदस्य के रूप में मुझे सम्मिलित किया गया। उन की मीटिंग भी सम्पन्न हुई और शाम तक हम लोग शिलाँग आश्रम आ पहुँचा। चेरापुँजी के संस्मरणों को किसी अगली किस्त में लिखूँगा।
इसी बीच मुझे व्याख्यानों के लिए चंडीगढ़ जाना था। शिलाँग में तबादला होने के कई दिन पहले ही यह कार्यक्रम निश्चित हुआ था। ४ अप्रैल को शिलाँग से रवाना हुआ और वहाँ का व्याख्यान इत्यादि कार्यक्रम समाप्त कर १० तारीख को सुबह ७ बजे शिलाँग लौटा तो एक बुरी खबर मेरा इन्तजार कर रही थी।
वहाँ विवेकानन्द कल्चरल सेंटर (क्विण्टन हॉल) में दो लोग निवास करते थे – एक भक्त – स्वयंसेवी और एक वेतन कर्मी (उनके नाम यहाँ नहीं दे रहा हूँ)। इनमें जो वेतन कर्मी था वह मानसिक-पीड़ा से त्रस्त था और स्वयं वो भक्त से सख्त नफरत करता था। पूर्व रात्रि को उसने उस भक्त के मस्तक पर हँसिया से वार किया। वह लहुलहान अवस्था में भागकर जान बचाने में किसी प्रकार सफल हो गया। पुलिस ने उसे अस्पताल में भर्ती किया और हमलावर कर्मी को जानलेवा हमला (Attempt to murder) करने के जुर्म में गिरफ्तार कर लिया।
क्या करूँ मुझे कुछ समझ में नहीं आ रहा था। ऐसी परिस्थिति से सम्मुखी होने का प्रसंग मेरे जीवन में पहले कभी भी नहीं आया था। आश्रम के मेरे सहकारी साधुओं के लिए भी ऐसी जटिल समस्या का कोई अनुभव नहीं था। एक अच्छा समाचार इतना था कि उस भक्त की हालत ठीक हो रही थी, जीवन को खतरा नहीं था, पर पूर्ण रूप से स्वस्थ होने में अभी काफी समय लगेगा। उस प्रसंग के कारण पुलिस स्टेशन में और वकील लोगों के पास कई बार जाना हुआ। फिर अब विवेकानन्द कल्चरल सेंटर में अब काम कौन करेगा यह भी एक बड़ी समस्या थी। यह हादसा क्यों हुआ और इसमें दोष किसका है इस बारे में भी साधुओं में मतभेद था।
कुछ महिनें के गुजरने के बाद यह समस्या समाप्त तो हुई किन्तु उससे काफी शिक्षा भी मिली। यहाँ इस घटना से सम्बन्धित एक बात लिखना चहता हूँ। जिनसे मैंने कार्यभार स्वीकार किया था वे श्रद्धेय रघुनाथानन्द जी इस सम शिलाँग में ही थे। उनसे जब मैंने इस बारे में सलाह पूछी तो उन्होंने हँसते-हँसते कहा, “हाँ, अब बाघ की पूँछ तुम्हें सौंप दी है; मैं फिर से पकडने की मूर्खता नहीं करूँगा। ”
और उसी दिन आश्रम का वार्षिकोत्सव शुरु होने जा रहा था। किन्तु आज भजन- गान होने वाला था, किन्तु गायक-वादकों का दल – जो दिग्बोई से आनेवाला था- वह नहीं आ पाया – उन लोगों में जो मुख्य थे, उन्हें चुनाव के कारण छुट्टी नहीं मिल पायी। यहीँ आश्रम से सम्बन्धित कुछ गायकों ने भजन किया।
उत्सव में सहभागी होने हेतु काशी से स्वामी शुद्धव्रतानन्द जी और तपनानन्द जी पधारे थे – दोनो रघुनाथानन्द जी के घनिष्ट मित्र थे; वे तीनो १९६० के दशक में शिलाँग आश्रम में लगभग एक ही साथ ब्रह्मचारी के रूप में प्रविष्ठ हुए थे।
शुक्रवार को दोपहर ३.३० को उत्सव का दूसरा कार्यक्रम हुआ। आश्रम के ही एक स्वामीजी ने कुछ और गायक-वादकों के साथ ‘गीति-आलेख्य’ (गीतों के माध्यम से श्री रामकृष्ण के चरित्र का आख्यान) सादर किया। फिर श्रीमती दीपाली चक्रवर्ती, शुद्धव्रतानन्द जी, तपनानन्द जी के सारगर्भित व्याख्यान हुए।
अच्छा भक्त- समागम हुआ था। उत्सव और दो दिन तक चला। बड़े अच्छे व्याख्यान और भजनादि हुए। एक बड़ा कार्यक्रम विवेकानन्द कल्चरल सेंटर में भी हुआ। श्रद्धेय रघुनाथानन्द जी को ‘विदाई पार्टी’ (send-off) भी इन्हीं दिनो दी गयी। शिलाँग आश्रम में मेरा प्रथम व्याख्यान भी हुआ। बहुत सारे भक्तों से वार्तालाप हुआ। प्रायः सभी भक्त मेरे साथ बांगला में और आपस में सिल्हेटी भाषा मे बात करते थे, जिसे समझने में मुझे काफी कठिनाई होती थी।
अगला दिन रविवार, १४ अप्रैल बांगला सालगिराह ‘नोबो बोर्षो’। प्रातः काल से ही भक्तों की बड़ी भीड़ लगी थी। उन सब के साथ मिलना हुआ, परिचय हुआ। सुबह- शाम विवेकानन्द कल्चरल सेंटर में उत्सव का अंतिम दिन मनाया गया। एक विख्यात गायक का सुंदर गायन सुबह हुआ और शाम को कई स्वामीजी लोगों के सुंदर व्याख्यान!
शिलाँग पहुँचकर मुझे केवल १२ दिन हुए थे, (उनमे से ६ दिन चंडीगढ़ की यात्रा मे खर्च हुए) किन्तु लग रहा था कि मैं यहाँ कई बरसों से हूँ।

स्वामी योगात्मानन्द वेदान्त सोसाइटी आफ प्रोविडेन्स के मंत्री एवं अध्यक्ष हैं। ये 1976 में रामकृष्ण मिशन में शामिल हुए और 1986 में संन्यास की दीक्षा ली। 20 वर्ष तक रामकृष्ण मिशन नागपुर, में कार्य करने के उपरांत रामकृष्ण मिशन शिलांग मेघालय, के अध्यक्ष के रूप में कार्यरत रहे। तदुपरांत आप सन् 2001के ग्रीष्म ऋतु में अमेरिका में वेदांत सोसायटी आफ प्रोविडेन्स के मंत्री के पद पर आए।


How to Play Free Casino Games

If you enjoy playing casino games but do not want to risk losing money, then play for free casino games online. Many of these games are supplied by several casinos, by the big names like Partypoker, Ultimate Blackjack, Bodog, Party poker and much more. They all offer free internet gaming and a variety of bonuses. Each of the games mentioned (more…)

Be Scared to Write My Research Paper – The Other Normally Held Fear That Students Must

A great deal of school students are scared to write their research papers. Not that they don’t understand how to write a great one. It is only that they are scared to take action. Whenever you’re frightened to write, another more common issues in school might take hold.

The worst fear about grammar (more…)

शिलाँग में मेरा प्रथम दिन

स्वामी योगात्मानन्द, वेदान्त सोसायटी आफ प्रोविडेन्स, अमेरिका

स्वामी योगात्मानन्द वेदान्त सोसाइटी आफ प्रोविडेन्स के मंत्री एवं अध्यक्ष हैं। ये 1976 में रामकृष्ण मिशन में शामिल हुए और 1986 में संन्यास की दीक्षा ली। 20 वर्ष तक रामकृष्ण मिशन नागपुर, में कार्य करने के उपरांत रामकृष्ण मिशन शिलांग मेघालय, के अध्यक्ष के रूप में कार्यरत रहे। तदुपरांत आप सन् 2001के ग्रीष्म ऋतु में अमेरिका में वेदांत सोसायटी आफ प्रोविडेन्स के मंत्री के पद पर आए।

स्मृतियों के झरोखे में बासन्ती हवा ने बादलों की पाती भेज रामकृष्ण मिशन शिलांग द्वारा प्रकाशित अंतर्राष्ट्रीय ई पत्रिका ‘का जिंग्शई अर्थात ज्योति’, द लाइट के लिए कुछ शब्द-मुक्ताओं को पिरोने का दायित्व दिया है। आज स्मृतियों के पन्ने पलटता हूँ और वर्तमान से अतीत में जा मेघालय की राजधानी शिलांग में अपने प्रथम दिवस की अनुभूतियों को आपके साथ आत्मसाथ करता हूँ।
गुरुवार, दि. २९ फरवरी १९९६ (जो कि चार सालों में एक ही बार आनेवाली तारीख़ है)। सुबह करीब ९ बज रहे थे। नागपुर, रामकृष्ण मठ के प्रकाशन विभाग के कार्यालय में मैं कुछ १५ – २० मिनट पेहले पहुचाँ था; और भी एक या दो मठवासी संन्‍यासी आ गये थे, कुछ वेतन भुक्त कर्मचारी भी मौजूद थे। कई दैनिक गतिविधियाँ – पुस्तकों की छपाई, प्रूफ रीडिंग कई लोगों से पत्रव्यवहार, इत्यादि – जारी थी, कि बेलुर मठ से फोन आया। श्रद्धेय आत्मस्थानानन्द जी, जो उन दिनों जनरल सेक्रेटरी थे, मुझ से बात करना चाहते थे। “साष्टांग प्रणाम, महाराज”, मैंने कहा।
वैसे तो इस प्रकार के फोन की अपेक्षा कुछ दिनों से थी ही। नागपुर के मठ से मेरा तबादला लगभग निश्चित ही था; किन्तु सिवा मेरे, इसकी भनक वहाँ अन्य किसी को भी नहीं थी। जब श्रद्धेय आत्मस्थानानन्द जी ने बताया कि मुझे शिलाँग के आश्रम का मुख्य बनाकर भेजा जा रहा है, तो मैं बिल्कुल चौंक गया। क्या कहूँ, क्या ना कहूँ, कुछ भी नहीं सूझ रहा था। दो – तीन मिनट बात हुई, कुछ और समाचार देकर उन्होंने फोन रख दिया।


शुक्रवार दि. मार्च २२, १९९६। प्रातः ११ बजे नागपुर से मेरी यात्रा प्रारंभ हुई – हावड़ा मेल से। दूसरे दिन बेलुड़ मठ-स्थित रामकृष्ण मठ – मिशन के मुख्यालय में पहुँच कर शिलाँग आश्रम का कार्यभार सम्हालने का अधिकार – पत्र व अन्य आवश्यक कागजाद लिये। दूसरे दिन प्रेसिडेंट महाराज परमपूज्य भूतेशानन्द जी महाराज से मुलाकात हुई। वे शिलाँग आश्रम के प्रथम प्रमुख थे। उन्होंने भूरि-भूरि आशीर्वाद दिया। अन्य वरिष्ठ सन्यासी, जो कि शिलाँग आश्रम में पहले कार्यरत थे उनसे भी परामर्श लिया। और सोमवार २५ मार्च को आकाश मार्ग से गुवाहाटी पहुँच गया। वहाँ शिलाँग आश्रम से स्वामी हृदानन्द जी हवाई अड्डे पर आये थे। रास्ते में रुखकर कामाख्या-पीठ का दर्शन कर और गुवाहाटी के नितान्त-सुंदर आश्रम मे रात बिताकर दूसरे दिन सुबह शिलाँग के लिये हम रवाना हुए। मैं, हृदानन्द जी और ड्राईवर। रास्ते में एक गणेश मंदिर में दर्शन किया। आनेवाले लगभग चार सालों में शिलाँग – गुवाहाटी – शिलाँग की अनगिनत यात्राएँ हुई, प्रायः हर बार यहाँ गणेश जी के दर्शन कर ही आगे बढ़ना होता था। ठीक सुबह ११.२५ को गाड़ी शिलाँग आश्रम में पहुँच गयी। श्रद्धेय रघुनाथानन्द जी (आश्रम प्रमुख जो मुझे कार्यभार सौप देने वाले थे), श्रद्धेय गणनाथानन्द जी, समचित्तानन्द जी और कई साधु-बर्ह्मचारियों ने हृदयपूर्वक स्वागत किया।
तो इस प्रकार २६ मार्च १९९६ को मेरा शिलाँग जीवन प्रारम्भ हुआ। हाँ, एक और बात तो लिखना भूल ही गया था। शिलाँग में और गुवाहाटी से शिलाँग आते समय जो सुरम्य पर्वतों के बीच से गाडी चलती है, वहाँ की प्राकृतिक सुंदरता का वर्णन तो मैंने कई प्रत्यक्ष-दर्शियों से सुना था किन्तु ‘सुनना’ और प्रत्यक्ष देखना इस में कितना अंतर होता है! वह दृश्य अद्भुत था विशेष कर जब गाड़ी उमियाम (बड़ा पानी) से गुजर रही थी तो अनिमेष दृष्टि से उस सुंदरता का पान कर रहा था फिर आने वाले चार वर्षोँ में न जाने कितने बार उस दृश्य को अतीव आनन्द से, कितने ही रंगों में देखा।
शिलाँग आश्रम का मंदिर तथा परिसर भी अति सुंदर और साफ़-सुथरा था।
मुझे उसी कमरे में रहना था, जहाँ परम पूज्य भूतेशानन्द जी से लेकर सभी आश्रम-प्रमुख निवास करते थे। उस कमरे से लगे बरामदे में मैं, रघुनाथानन्द जी तथा अन्य सब बैठकर सामान्य बातचीत कर रहे थे। मुझे एक कटोरी में कुछ प्रसाद दिया गया। आनंद से उसे खाकर मैं हाथ-मुँह धोने के लिये बाथरूम में गया – और…
शिलाँग पहुँचने से पहले बेलुर मठ में कई पुराने संन्यासियों ने वहाँ की समस्याएँ बतायी थीं। पूज्य प्रमेयानन्द जी ने विशेष आग्रह के साथ कहा था कि वहाँ सारे इलाके में, विशेषकर अपने आश्रम में, पानी की बहुत बड़ी समस्या है; देखो यदि तुम उसके लिये कुछ कर सको तो बहुत अच्छा होगा। जब मैं अब शिलाँग के बाथरूम में पहुँचा तो वहाँ किसी नल से पानी नहीं आ रहा था। एक महाराज जी जल्दी से कहीं से थोड़ा पानी लाए। पूज्य प्रमेयानन्द जी के कथन का मेरे पहुँचते ही प्रमाण मिल गया। इस समस्या का हल करना मेरी प्राथमिकता बन गई ।


शिलाँग में प्रथम दिन ही सायंकाल को ‘विवेकानन्द कल्चरल सेन्टर’ मे जाने के लिये श्रद्धेय रघुनाथानन्द जी के साथ निकला। इसके पहले लाइब्रेरी, लेक्चर हाल, स्टूडेण्ट्स होस्टेल इत्यादि सारा उन्होंने घूम कर दिखाया। (इन में होस्टल, साधू-निवास और रसोई – भोजन – कक्ष अब बड़ा ही विस्तृत और सुंदर बना है; १९९६ में या २००० में – जब मेरा शिलाँग से तबादला हुआ – वह इतना अच्छा नहीं था। ) जाते समय से पहले पाँच मिनट डिस्पेन्सरी देखी (वह भी अब बहुत बड़ी हुई है)। जीप में बैठकर जब हम जा रहे थे, तो श्रद्धेय रघुनाथानन्द जी अपने विनोद-गर्भ, सुंदर शैली में आश्रम के विविध कार्य, उनकी पृष्ठभूमि, आश्रम के समर्पित भक्त, इन सब के सम्बन्ध में जानकारी दे रहे थे।
पुलिस बाज़ार, जहाँ आज ‘विवेकानन्द कल्चरल सेन्टर’ के नाम से विख्यात संस्था है, मानो शिलाँग का केंद्र बिंदु था, हृदय था। उन दिनों ‘विवेकानन्द कल्चरल सेन्टर’ यह नाम कोई नहीं जानता था – उसे ‘क्विण्टन हाल’ कहते थे। पहुँच कर देखा – मकान की स्थिति डाँवाडोल थी और देखने में भी भद्दी। समचित्तानन्द जी – जो वहाँ की गतिविधियाँ देखते थे – हमें सीढ़ी से ऊपर देवघर में ले गये। सीढ़ी लड़खड़ाते हुए मानों कह रही थी – ‘मुझे भी मरम्मत की सख्त जरूरत है।’ तब स्मरण हुआ कि श्रद्धेय आत्मस्थानानन्द जी की उस सूचना का, जो तीन दिन पहले बेलुर मठ में मुझे दी थी। रामकृष्ण संघ के जनरल सेक्रेटरी के नाते उन्होंने बताया था की यद्यपि बरसों की न्यायिक लड़ाई के बाद इस क्विण्टन हाल पर रामकृष्ण मिशन का अधिकार हो तो गया है, परन्तु कुछ प्रशासकीय अवरोधों के कारण वह जायदाद अभी भी हमारे नाम पर दर्ज नहीं हुई है। और इसी कारण उस स्थान का नवीनीकरण/ पुननिर्माण नहीं हो रहा है। मुझे शिलाँग पहुँच कर इस काम को तेजी से आगे बढ़ाना होगा।
वहाँ से लौटते समय श्रद्धेय रघुनाथानन्द जी ने बताया कि स्वामी विवेकानन्द जी के संस्पर्श से पुनीत हुआ यह स्थान, रामकृष्ण मिशन को मिल तो गया है; किन्तु मेघालय की सरकार अभी भी उसे अपने हाथ करना चाहती है। इसीलिये यहाँ का प्रशासन अभी भी इसके पन्जीकरण में कई बाधाएँ डाल रहा है। अब तुम कोशिश करो – कुछ मार्ग ढूँढ निकालो।


क्विण्टन हाल से लौटकर आया और आरती में शरीक हुआ। छात्रवास के बच्चे सुंदर आरती गान कर रहे थे। ४ – ६ भक्त भी उपस्थित थे। एक ‘चकमा’ छात्र – सुजय उसका नाम – बड़ी खूबी से तबला बजा रहा था। सभी छात्रों को संगीत का स्वयंप्रेरित ज्ञान था। आरती के उपरान्त कुछ भक्तों से चंद क्षण वार्तालाप हुआ। मंदिर में श्रीरामकृष्ण देव की मूर्ति रात के मंद प्रकाश में अत्यंत सुंदर दिखाई दे रही थी। रात्रि का भोजन हुआ – तब शिलाँग की ठंड का एक और प्रभाव दिखाई दिया। भोजन परोसते-परोसते ही ठण्डा हो जाता था। क्या करे ? सोचा – अब ऐसा ही भोजन करने अभ्यास बनाना होगा। जैसी रात बढ़ती गयी, ठंड भी बढ़ने लगी। मार्च के अन्त में इतने ठंड की मुझे अपेक्षा नहीं थी। जल्द ही मैंने सामान को खोलकर एक स्वेटर और टोपी पहन लिया और आते समय श्रद्धेय रघुनाथानन्द जी ने जो एक सुंदर ऊनी शाल दी थी (जिसका उपयोग मैं यहाँ अमेरिका में पच्चीस सालों के बाद भी कर रहा हूँ ) उसे ओढ़ लिया। सब साधुओं से कुछ वार्तालाप हुआ और मैं सोने के लिये चला गया।
नींद ठीक से नहीं आ रही थी कारण एक ओर बढ़ती ठंड और दूसरी ओर जोर से चलने वाली हवा की आवाज। सब कुछ नया अनुभव था। चंद दिनों में इस से अभ्यस्त हो गया।
इस प्रकार शिलाँग का प्रथम दिन कई नयी बातें सीखते – सीखते आनन्द पूर्वक गुजर गया। आने वाले चार वर्ष चुनौती पूर्ण थे। उन दिनों की स्मृतियाँ शेष हैं…पुनश्च

Have 2000 Free of cost Gambling den Activities (An absense of Downloads)

Smart Video poker machines Gambling house, as the label suggests, is an on the web casino that is focused mainly on on the web slot game titles. WinningRoom Gambling house wedding invitations most British isles members to promise this astounding benefit. (more…)

Yahoo and google Is At this moment A fabulous Aspect Of Verizon Advertising

Casino poker food scenarios can come present in an important number of products, price and styles ranges. The cellular network may aankona.com be new for the Cats slot game, but online gamblers are weIl aware of this spectacular gambIing title by ITC. (more…)